Keyword kya hai

Keyword kya hai | कीवर्ड क्या होता है और इसका इस्तेमाल कैसे करते हैं

Keyword Kya Hai |keyboard in hindi

जब कोई यूजर गूगल पे कुछ भी सर्च करता है तो जिस वर्ड का इस्तेमाल करता है वो Keyword
कहलाता है |
जैसे- अगर कोई गूगल पे सर्च किया वेबसाइट कैसे बनाये तो फिर सर्च इंजन उस कीवर्ड के
ऊपर लिखे कंटेंट को उस यूजर के सामने प्रेजेंट करता है | किसी भी वेबसाइट को किस पोजीशन
पे दिखाना है इसमें कीवर्ड का सबसे अहम् भूमिका है |

इस पोस्ट में हम बात करेंगे की कीवर्ड क्या है और उसका इस्तेमाल ब्लॉगर के द्वारा किस प्रकार
से किया जाता है |

कीवर्ड क्या है – Keyword in Hindi

जब कोई ब्लॉगर कोई कंटेंट लिखता है तो उस पोस्ट को SEO(Search Engine Optimization) करना
परता है | आपका पोस्ट किस टॉपिक के ऊपर है ये गूगल तभी पता चलेगा जब पोस्ट का प्रॉपर सो किया
हुआ होगा |SEO करने के लिए कीवर्ड सबसे इम्पोर्टेन्ट होता है |

किसी भी कीवर्ड को टारगेट कर के ही पोस्ट को लिखा जाता है और उस कीवर्ड का इस्तेमाल भी
काफी ध्यान से और सही तरीके से किया जाता है ताकि गूगल उस पोस्ट को आसानी से समझ सके
की पोस्ट किस टॉपिक के ऊपर है |

जब कोई यूजर गूगल पे उस टॉपिक से जुड़े कीवर्ड को सर्च करता है तो गूगल टार्गेटेड कीवर्ड के मदद
से सबसे अच्छे और सही पोस्ट को सबसे ऊपर दिखता है | अगर सही से कीवर्ड का इस्तेमाल नहीं
किया हुआ होता है तो काफी कम चांस है की गूगल उसको पहले पेज पे दिखायेगा |

और अगर आपका वेबसाइट पहले पेज पे नहीं दिखायेगा तो आपके पोस्ट के ऊपर ट्रैफिक ही नहीं
आएगा | आप खुद भी कभी गूगल पे कोई चीज सर्च करते हैं तो देखते होंगे काफी परफेक्ट और
सही जवाब ही गूगल के पहले पेज पे आता है |
और काफी कम चांस है की लोग पहले पेज के बाद गूगल के अगले पेज पे जाएँ |

वैसे तो वेबसाइट के पोस्ट को गूगल के पहले पेज पे दिखना कई चीजों के ऊपर निर्भर करता है
लेकिन कीवर्ड का उसमे सबसे बड़ा रोल होता होता है |

keyword ko hindi mein kya kehte hain

keyword को हिंदी में भी कीवर्ड ही कहते हैं इसे कोई अलग नाम से हिंदी में नहीं बोला जाता है |
जब कोई ब्लॉग पोस्ट लिखा जाता है तो उस समय जिस भाषा में ब्लॉग लिख रहें हैं उसी भाषा में
कीवर्ड रिसर्च किया जाता है और उस टॉपिक से जुड़े जिस कीवर्ड का सर्च वॉल्यूम ज्यादा होता है
उसी कीवर्ड को टारगेट कर के पोस्ट को लिखा जाता है |

किसी भी टॉपिक के ऊपर पोस्ट लिखते समय यूजर को ध्यान में रख के लिखना चाहिए ऐसा नहीं
की कीवर्ड को टारगेट के चक्कर में कंटेंट ही उपयोगी नहीं हो |

SEO के लिए Keyword क्यों जरुरी है?

SEO Keyword
SEO Keyword

दुनिया में जितने भी वेबसाइट या ब्लॉग के मालिक हैं उनका एक ही सपना होता है की जब
यूजर उनके बिज़नेस से जुड़े कीवर्ड को गूगल में सर्च करे तो उनका वेबसाइट या ब्लॉग गूगल
के पहले पेज पे दिखे और वो भी सबसे ऊपर दिखे |

किसी भी कीवर्ड का 90% से ज्यादा सर्च क्लिक गूगल के पहले पेज पे होता है | दूसरे पेज पे
यूजर जाता ही नहीं है ऐसे में अगर आपका पोस्ट दूसरे या तीसरे पेज पे दीखता है तो आपके
पेज के ऊपर ट्रैफिक आने की चांस बिलकुल कम है | इसी लिए कुछ SEO एक्सपर्ट का कहना है –

Best hiding place for a dead body is really the 2nd page of Google  or beyond.

किसी भी कीवर्ड को सर्च करने पे गूगल पे आपका पोस्ट पहले पेज पे और सबसे ऊपर तभी दिखेगा
जब आपका पोस्ट कंटेंट डायरेक्ट उस कीवर्ड के ऊपर है | ऐसा नहीं है की कोई गलत इनफार्मेशन में
कीवर्ड का इस्तेमाल कर देने से आपका पोस्ट गूगल के पहले पेज पे आ जायेगा |

जो भी प्रोफेशनल ब्लॉगर हैं वो अपने ब्लॉग को सबसे पहले जानकारीपूर्ण बनाते हैं ताकि यूजर अगर
ब्लॉग पे Keyword सर्च करने पे आ गया तो बिना उस पोस्ट को पूरा पढ़े जाना नहीं चाहिए |

अगर कोई गलत इनफार्मेशन देकर किसी कीवर्ड के ऊपर अपने पोस्ट को रैंक करने की कोशिस करता
है तो हो सकता है की किसी और वजह से पोस्ट रैंक कर जाये, लेकिन जब यूजर उस पोस्ट को पढ़ेगा
और जब उसे उस कीवर्ड से जुड़ी जानकारी नहीं मिलेगी तो तुरंत ही उस वेबसाइट से निकल जायेगा |

अगर हरेक बार ऐसा होता है तो वेबसाइट का बाउंस रेट बढ़ता है और गूगल उस पोस्ट को निचे रैंक
पे दिखाना शुरू कर देता है |

Bounce Rate क्या होता है?

कोई यूजर किसी blog पे आता है और कितना देर उस पोस्ट के ऊपर टिकता है
वो Bounce Rate कहलाता है | अगर किसी ब्लॉग के ऊपर जो इनफार्मेशन है वो
यूजर के लिए उपयोगी नहीं है तो यूजर उस पोस्ट को पूरा पढ़े बिना निकल जाते हैं |

जितना ज्यादा देर पोस्ट या पेज के ऊपर यूजर टिकता है उतना बाउंस रेट कम होता है
और जितना जल्दी यूजर वेबसाइट से बाहर आ जयेगा उतना उस वेबसाइट का बाउंस रेट
बढ़ेगा | बाउंस रेट ज्यादा होने से वेबसाइट के ऊपर निगेटिव इफ़ेक्ट परता है और उससे
पोस्ट का रैंक गिरने का चांस बढ़ जाता है |

Keyword का इस्तेमाल कैसे करते हैं

जब भी कोई पोस्ट लिखा जाता है तो उससे पहले उस टॉपिक से जुड़े कीवर्ड रिसर्च
कर लिया जाता है फिर उस कीवर्ड को पोस्ट के अंदर लिखा जाता है उसी Keyword
को टाइटल में लिखना होता है |

Google bot जब किसी साइट को crowl करता है तो सबसे पहले कीवर्ड ही ढूँढता
है ये पता करने के लिए की ये पोस्ट किस टॉपिक से रिलेटेड है |

ऐस नहीं की किसी कीवर्ड को पुरे पोस्ट में खूब ज्याद इस्तेमाल करने से वो पोस्ट उस
कीवर्ड पर रैंक कर जयेगा | कटेंट में जहाँ पे जरूरी हो वहीं पे कीवर्ड का इस्तेमाल करना
जरूरी है | SEO (Search engine optimization ) में कीवर्ड का सबसे बड़ा रोल है |

वर्डप्रेस पे SEO करना काफी आसान है | वहां पे कई ऐसे बेहतरीन plugins है जो पोस्ट
लिखते समय पोस्ट को ट्रैक करता है की टार्गेटेड कीवर्ड कितनी बार पोस्ट के अंदर इस्तेमाल
हुआ है |

वर्डप्रेस एक कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम है | पुरे इंटरनेट का लगभग 60 प्रतिशत वेबसाइट और
ब्लॉग वर्डप्रेस के मदद से बना हुआ है | वर्डप्रेस का डैशबोर्ड काफी आसान है जिसके वजह से
कोई भी यूजर अससनी से अपना नए वेबसाइट या ब्लॉग बना सकता है |

वर्डप्रेस पे SEO करना आसान है जिसके वजह से अधिकतर कंटेंट राइटर वर्डप्रेस के मदद से
अपना ब्लॉग बनाते हैं | वर्डप्रेस क्या है इस पोस्ट के माध्यम से वर्डप्रेस के बारे में और ज्यादा
विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं |

अगर आप भी अपना ब्लॉग या वेबसाइट वर्डप्रेस के माध्यम से बनाना चाहते हैं तो वर्डप्रेस पे
वेबसाइट कैसे बनाएं
पोस्ट क मदद से अपना वेबसाइट बना सकते हैं |

कीवर्ड कितने प्रकार के होते हैं – Types of Keywords in Hindi

 Length के हिसाब से कीवर्ड को तीन प्रकार में बांटा गया है

किसी कीवर्ड की लंबाई उसकी search volume और उसपे आने वाले संभावित ट्रैफ़िक और उस
कीवर्ड पे कितना कॉम्पिटिशन है इसके बारे में बताती है |
कीवर्ड की लम्बाई जितना कम होती है उतना उसका search volume ज्यादा होता है और
साथ ही उस कीवर्ड का कॉम्पिटिशन भी ज्यादा होता है |

  1. Short-tail keywords (head, broad, generic keywords)
  2. Mid-tail keywords
  3. Long-tail keywords

Short-tail keywords:

Short-tail keywords एक या दो वर्ड का कीवर्ड होता है | इस कीवर्ड का search volume काफी
ज्यादा होता है |ऐसे कीवर्ड के ऊपर पहले से ही कई वेबसाइट और ब्लॉग पे कंटेंट लिखे होते हैं जिसके
वजह से competition भी काफी ज्यादा होता है और ऐसे कीवर्ड पे नए ब्लॉग को रैंक कराना काफी
मुश्किल होता है |

Short-tail keywords example:

“website”
“Blog”
“seo”
“Digital Marketing”
“jeans”

Mid-tail keywords :

Mid-tail keywords का लम्बाई Short-tail keywords के अपेक्षा थोड़ा ज्यादा होता बड़ा होता है
ऐसे कीवर्ड को Short-tail keywords के साथ जोड़ कर बनाया जाता है |
Mid-tail keywords का सर्च वॉल्यूम Short-tail keywords के अपेक्षा थोड़ा कम होता है |
और competition भी उसी हिसाब से कम होता है |

“website design”
“Blog”
“Best Men’s jeans”

Mid-tail keywords काफी ज्यादा इस्तेमाल होता है | इस तरह के कीवर्ड के इस्तेमाल से organic
ट्रैफिक मिलने के चांस ज्यादा होते हैं और ब्लॉग पोस्ट को Google पे आसानी से रैंक भी कराया जा सकता
है | गूगल ने इस तरह के keywords सर्च रिजल्ट को दिखने के लिए ही “Snippet” को लांच किया है |
जब भी कोई यूजर गूगल में Mid-tail keywords के रूप में word या sentence को सर्च करता है तो
“Snippet” सर्च रिजल्ट में ही डायरेक्ट answer को दिखाता है |

Long tail Keyword:

Long tail keyword के ऊपर Competetion बिलकुल ही कम होता है | Long tail keyword बाकि सभी
तरह के कीवर्ड की तुलना में सबसे ज्यादा effective होते हैं| कीवर्ड जितना लम्बा होगा रिजल्ट उतना ही
अच्छा मिलेगा |

इस तरह के कीवर्ड को Long tail keyword के साथ जोड़ कर सवाल बनाया जाता है और उस सवाल को
टारगेट कर के ब्लॉग पोस्ट लिख जाता है | इस तरह के कीवर्ड पे लिखे गए ब्लॉग को गूगल में रैंक करने की
सम्भावना ज्यादा होती है |

” Blogging kya hota hai ”
“website design kaise banaye”

LSI कीवर्ड क्या होता है?

LSI का फुल फॉर्म (Latent semantic indexing) होता है| गूगल सर्च इंजन किसी भी
पेज के कंटेंट को इंडेक्स करने के समय सर्च इंजन bots के जरिये crawl करते हैं| और ये
पता करता है की पोस्ट या पेज किस टॉपिक के ऊपर लिखा है | ब्लॉग पोस्ट के ऊपर दिए गए
कीवर्ड और कंटेंट मैच कर रहे हैं या नहीं | इसके अलावा ब्लॉग पोस्ट या पेज से रिलेटेड और
भी फ्रेज या LSI कीवर्ड से कंटेंट का रिलेशन चेक करता है

LSI Keyword Kya Hai
LSI Keyword

LSI (latent semantic indexing) कीवर्ड को Related Keywords भी कहते हैं | ये वो कीवर्ड
होता है जो primary keyword से मिलता जुलता होता है |

जब आप कुछ भी कीवर्ड गूगल पे सर्च करते हैं और गूगल उस कीवर्ड से जुड़े पोस्ट को दिखाता है
उसके साथ ही पेज के लास्ट में जो Searches related to keyword दीखता है वो
LSI (latent semantic indexing) कहलाता है |

जैसे हमने गूगल पे सर्च किया था “Keyword”
और रिजल्ट के निचे में इससे जुड़े कई सारे LSI मिल गए | अगर कोई ब्लॉगर पोस्ट
लिखता है तो उसे पहले कीवर्ड रिसर्च करता है ताकि उसके पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोग देख सके
और उनका ब्लॉग आगे बढ़ सके |

Keyword रिसर्च के समय LSI कीवर्ड को भी ध्यान में रखा जाता है और उसको ब्लॉग पोस्ट के अंदर
इस्तेमाल किया जाता है | ताकि पोस्ट को गूगल सही से रैंक करे और सर्च इंजन पेज पे ऊपर में
प्रेजेंट करे |

कीवर्ड रिसर्च क्या होता है हिंदी में जाने
keyword research in hindi

कीवर्ड रिसर्च करना किसी भी ब्लॉग को लिखने से पहले काफी जरुरी है |बिना कीवर्ड
रिसर्च के अगर कोई कंटेंट लिखते हैं तो उस पे ट्रैफिक आने की सम्भावना बिलकुल ही कम है |

कीवर्ड रिसर्च से ये पता करना होता है की हम जो कंटेंट लिख रहे हैं वो उसके लिए उपयोगी है
या नहीं |कोई यूजर उस कीवर्ड को सर्च करता है की नहीं यानि उस कीवर्ड का सर्च वॉल्यूम
है की नहीं |

आखिरी बात वो कीवर्ड के ऊपर competition कितना है ये भी कीवर्ड रिसर्च के
समय देखना होता है तभी कोई वेबसाइट के मालिक या ब्लॉग ओनर कंटेंट मार्केटिंग के क्षेत्र में सफल
हो सकता है |

keyword research कैसे करें

कीवर्ड रिसर्च के लिए मार्केट में कई सारे टूल्स उपलब्ध हैं | कुछ टूल्स के लिए आपको पैसे
देने हो सकते हैं और कुछ Tools फ्री हैं | उन सभी टूल्स में से जो सही लगे उन Tools का इस्तेमाल
कर के कीवर्ड रिसर्च कर सकते हैं |

  1. SEMrush
  2. KWFinder
  3. Ahrefs Keyword Explorer
  4. Google Keyword Planner
  5. Ubersuggest
  6. GrowthBar
  7. Long Tail Pro
  8. Majestic
  9. Keyword Tool
  10. Serpstat
  11. SpyFu

ये कुछ कीवर्ड रिसर्च Tools हैं जिसका इस्तेमाल कर के अपने ब्लॉग के लिए कीवर्ड रिसर्च कर
सकते हैं |इनमे से कौन सबसे बेहतर कीवर्ड रिसर्च Tools है वो Best keyword research tools
पोस्ट के माध्यम से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं |

कंटेंट में कीवर्ड कैसे इस्तेमाल करते हैं?

कंटेंट के अंदर कीवर्ड का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए इसके लिए कोई fix दिशा निर्देश नहीं
है |आप ब्लॉगिंग के लिए किस प्लेटफार्म का इस्तेमाल कर रहे हैं इसके ऊपर भी निर्भर करता है |
अगर आप वर्डप्रेस के ऊपर ब्लॉग लिख रहे हैं तो वर्डप्रेस के अंदर कई सारे SEO plugins है जसका
इस्तेमाल कर के पोस्ट में आसानी से Keyword का इस्तेमाल कर सकते हैं |

SEO plugin

  1. Yoast
  2. Rankmath

इन दो plugin में से कोई भी plugins वर्डप्रेस में इनस्टॉल कर के अपने पोस्ट को
सर्च इंजन ऑप्टीमाइज़्ड बना सकते हैं |

वहीं अगर गूगल के फ्री ब्लॉगर पे पोस्ट लिख रहे हैं तो उसमे कीवर्ड का इस्तेमाल करना और SEO
करना थोड़ा कठिन होता है |

ब्लॉगर में SEO करने के लिए निचे कुछ तरीके बताये गए हैं उसको इस्तेमाल कर सकते हैं |
कीवर्ड का इस्तेमाल करना ये आपके अनुभव पे भी निर्भर करता है | पोस्ट लिखते समय इन सब
चीजों का ध्यान रखा जाता है | ब्लॉग पोस्ट कहीं भी बिना वजह के कीवर्ड इस्तेमाल करने से सर्च
इंजन उस पोस्ट को रैंक नहीं करता है 

1 सबसे पहले पोस्ट टाइटल के अंदर कीवर्ड होना अनिवार्य है |
2 Meta description में कीवर्ड का इस्तेमाल करना होता है |
3 पोस्ट के पहले पैराग्राफ में कीवर्ड का अवश्य इस्तेमाल करें|
4 अगर पोस्ट कभी लम्बा है तो पोस्ट के बिच में Subheading में कीवर्ड का इस्तेमाल
करना जरूरी है
5 Image Alt tag में भी कीवर्ड का इस्तेमाल जरूर करे |
6 Heading और Subheading यानी H2 और H3 में कीवर्ड होना अनिवार्य है |

Keyword Density क्या है?

Keyword Density को keyword frequency भी बोला जाता है | इसका मतलब होता है
कोई कीवर्ड किसी भी पोस्ट या कंटेंट के अंदर कितनी बार इस्तेमाल किया गया है |

किसी पोस्ट के टोटल वर्ड को उस पोस्ट के अंदर इस्तेमाल किये कीवर्ड से भाग देने पर
जो भागफल निकलता है वो उस पोस्ट का Keyword Density कहलाता है |

गूगल के पहले पेज पे पोस्ट को रैंक करवाने के लिए Keyword Density काफी इम्पोर्टेन्ट होता है|
वैसे तो गूगल की तरफ से कोई दिशा-निर्देश नहीं है की कितने कीवर्ड कितने लम्बे पोस्ट के अंदर
होना चाहिए |

जो भी SEO एक्सपर्ट है वो भी इस तरह का कोई प्रमाण नहीं देते हैं की किसी पोस्ट के अंदर
Keyword Density कितना होना चाहिए | सभी ब्लॉगर एक अनुमान के आधार पे कीवर्ड का
इस्तेमाल करते हैं |
ज्यादा कीवर्ड को किसी पोस्ट के अंदर इस्तेमाल करने पे भी पोस्ट रैंक नहीं कर सकता है |
गूगल इसे keyword stuffing बोलता है |

Keyword Stuffing क्या होता है

keyword stuffing
keyword stuffing

Google हमेशा खुद को अपडेट करते रहता है इसी लिए ब्लॉग पोस्ट के ऊपर काफी इफ़ेक्ट होता है |
10 साल पहले ब्लगिंग के क्षेत्र में Keyword Stuffing काफी लकप्रिय था | लोग जानबूझ कर
एक ही कीवर्ड को काफी संख्या में अपने पेज पे इस्तेमाल करते थे और पेज रैंक भी कर जाता
था | कोई यूजर अगर उस कीवर्ड को गूगल में सर्च करता तो जिस पोस्ट के ऊपर ज्यादा कीवर्ड मिलता
था वो पोस्ट गूगल के सबसे ऊपर दीखता था |

जैसा की पहले ही बता दिया गया है Google हमेशा अपने सर्च सिस्टम को अपडेट करते रहता है
ताकि user को सही इनफार्मेशन प्रदान कर सके |

अभी के समय में अगर कोई blogger अपने पोस्ट के ऊपर काफी ज्यादा मात्रा में एक ही कीवर्ड को
इस्तेमाल करता है तो काफी संभावनाएं हैं की गूगल उस पोस्ट के ऊपर पेनल्टी लगा दे और वो पोस्ट सर्च
रिजल्ट में नहीं भी आ सकता है|

Keyword का इस्तेमाल कहाँ-कहाँ होता है

ऐसा नहीं है की कीवर्ड का इस्तेमाल सिर्फ ब्लॉग लिखने में ही होता है | कीवर्ड का इस्तेमाल
किसी प्रोडक्ट का मार्केटिंग में Google ads पे या फिर किसी और दूसरे ad नेटवर्क
में भी किया जाता है |

मान लें , अगर कोई jeans की कंपनी है और उसे ऑनलाइन jeans बेचनी से तो अपने प्रोडक्ट के
प्रमोशन के लिए वो कंपनी विज्ञापन नेटवर्क का इस्तेमाल करेगी |विज्ञापन नेटवर्क में ऑप्टिमाइज़
विज्ञापन करने की सुविधा होती है और उसमे कीवर्ड का सबसे बड़ा रोल है|

अगर कोई व्यक्ति jeans खरीदना चाहता है तो वो गूगल में सबसे पहले Men’s jeans
ही सर्च करेगा और गूगल उन सभी वेबसाइट के प्रोडक्ट को दिखायेगा जो Men’s jeans
कीवर्ड को टारगेट कर के विज्ञापन चलाया होगा |

गूगल ads नेटवर्क में भी कीवर्ड को टारगेट करने से पहले कीवर्ड रिसर्च करना होता है |
वहां पे कीवर्ड रिसर्च के लिए Google Keyword Planner दिया हुआ है जिसको इस्तेमाल
कर के कीवर्ड रिसर्च किया जाता है |

See Also:

Best Web Hosting Service

domain kya hota hai

ssl certificate kya hai ? और यह कैसे काम करता है

Website kaise bnaye | प्रोफेशनल वेबसाइट कैसे बनाएं

website design | डिजाइनर स्टाफ के बिना वेबसाइट कैसे बनाएं

ब्लॉगिंग क्या होता है

WordPress Introduction | वर्डप्रेस क्या है

website traffic कैसे बढ़ाएं | 8 Ways to Increase Traffic to Your Website

Freelancing क्या हैं

Google adsense kya hai और कैसे काम करता है

paisa kaise kamaye | वर्डप्रेस ब्लॉगिंग से ऑनलाइन पैसा कमाने का तरीका

Google Search Console | Search console क्या होता है

DNS क्या होता है और ये क्या काम करता है

free me website kaise banaye | फ्री में वेबसाइट कैसे बनाये

Hosting Kaise Kharide ? होस्टिंग कैसे खरीदें

अपने नाम की वेबसाइट कैसे बनाएं | Apne Naam Ki Website Kaise Banaye

Amazon Affiliate Marketing से पैसे कैसे कमाए

Mobile se paise kaise kamaye | मोबाइल से पैसे कैसे कमाए

Blog kaise banaye | ब्लॉग कैसे बनाये

e commerce website kaise banaye | ई-कॉमर्स वेबसाइट कैसे बनाये

Business website kaise bnaye | बिज़नेस वेबसाइट कैसे बनाएं

Blogging kya hai | ब्लॉगिंग क्या है पूरी जानकारी हिंदी में

वर्डप्रेस ब्लॉग में पोस्ट कैसे लिखें | wordpress new post kaise likhe

News website kaise banaye | न्यूज़ वेबसाइट कैसे बनाये

Shayari Website पे शायरी लिखकर 20000 से 30000 रूपये महीना कमाएं

1 thought on “Keyword kya hai | कीवर्ड क्या होता है और इसका इस्तेमाल कैसे करते हैं”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close Bitnami banner
Bitnami